Maa Shayari in Hindi | Mothers Day Shayari

Explore over 100 heartfelt Maa Shayari in Hindi, dedicated to celebrating the love and essence of motherhood. Express your gratitude and emotions this Mother’s Day with beautifully crafted Shayari that pays tribute to the unconditional love and sacrifices of mothers. Show your appreciation in a poetic way with this collection of heartfelt verses

Maa Shayari

सर पर जो हाथ फेरे तो हिम्मत मिल जाये,
माँ एक बार मुस्कुरा दे तो जन्नत मिल जाये।
Sar Par Jo Haath Fere To Himmat Mil Jaye,
Maa Ek Baar Muskura De To Jannat Mil Jaye

चलती फिरती आँखों से अज़ाँ देखी है,
मैंने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है।
Chalti Firti Aankhon Se Azaan Dehi Hai,
Maine Jannat To Nahi Dekhi Hai Maa Dekhi Hai.

सूना-सूना सा मुझे ये घर लगता है,
माँ जब नहीं होती तो बहुत डर लगता है।
Soona Soona Sa Mujhe Yeh Ghar Lagta hai,
Maa Jab Nahi Hoti To Bahut Darr Lagta Hai.

भूख तो एक रोटी से भी मिट जाती माँ,
अगर थाली की वो रोटी तेरे हाथ की होती।
Bhookh To Ek Roti Se Bhi Mit Jaati Maa,
Agar Thali Ki Wo Roti Tere Haath Ki Hoti.

माँग लूँ यह दुआ कि फिर यही जहाँ मिले,
फिर वही गोद मिले फिर वही माँ मिले।
Maang Lun Yeh Duaa Ke Fir Yahi Jahaan Mile,
Fir Wahi God Mile Fir Wahi Maa Mile.

सीधा साधा भोला भाला मैं ही सब से सच्चा हूँ,
कितना भी हो जाऊं बड़ा माँ आज भी तेरा बच्चा हूँ।
Seedha Sadha Bhola Bhala Main Hi Sabse Achchha Hoon,
Kitna Bhi Ho Jaaun Bada Maa Aaj Bhi Tera Bachcha Hoon.

यूँ तो मैंने बुलन्दियों के हर निशान को छुआ,
जब माँ ने गोद में उठाया तो आसमान को छुआ।
Yun To Maine Bulandiyon Ke Har Nishaan Ko Chhuaa,
Jab Maa Ne God Mein Uthaya To Aasman Ko Chhuaa.

काला टीका दूध मलाई आज भी सब कुछ वैसा है,
मैं ही मैं हूँ हर जगह प्यार ये तेरा कैसा है?
Kala Teeka Doodh Malayi Aaj Bhi Sab Kuchh Waisa Hai,
Main Hi Main Hu Har Jagah Pyaar Yeh Tera Kaisa Hai.

घुटनों से रेंगते-रेंगते जब पैरों पर खड़ा हुआ,
माँ तेरी ममता की छाँव में जाने कब बड़ा हुआ।
Ghutno Se Rengate-Rengate Kab Pairon Par Khada Hua,
Maa Teri Mamta Ki Chhanv Mein Jaane Kab Bada Hua.

Maa Shayari in Hind

वो लिखा के लाई है किस्मत में जागना,
माँ कैसे सो सकेगी कि बेटा सफ़र में है।
Wo To Likha Ke Laayi Hai Kismat Mein Jaagna,
Maa Kaise So Sakegi Ki Beta Safar Mein Hai.

ऐ अँधेरे देख मुँह तेरा काला हो गया,
माँ ने आँखें खोल दी घर में उजाला हो गया।
Aye Andhere Dekh Tera Munh Kala Ho Gaya,
Maa Ne Aankhein Khol Di Ghar Mein Ujala Ho Gaya.

कुछ इस तरह वो मेरे गुनाहों को धो देती है,
माँ बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है।
Kuchh Iss Tarah Mere Gunaaho Ko Dho Deti Hai,
Maa Bahut Gusse Mein Hoti Hai To Ro Deti Hai.

माँ तेरे दूध का हक मुझसे अदा क्या होगा,
तू नाराज है तो खुश मुझसे खुदा क्या होगा।
Maa Tere Doodh Ka Haq Mujhse Adaa Kya Hoga,
Tu Naaraj Hai To Khush Mujhse Khuda Kya Hoga.

तेरे क़दमों में ये सारा जहान होगा एक दिन,
माँ के होठों पे तबस्सुम को सजाने वाले।
Tere Kadmon Mein Yeh Saara Jahan Hoga Ek Din,
Maa Ke Hothhon Pe Tabassum Ko Sajaane Wale.

गिन लेती है दिन बगैर मेरे गुजारें हैं कितने,
भला कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी।
Gin Leti Hai Din Bagair Mere Gujare Hain Kitne,
Bhala Kaise Kah Doon Ki Maa Anparh Hai Meri.

पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन,
बस इक औलाद की तकलीफ़ से माँ टूट जाती है।
Pahaado Jaise Sadme Jhelti Hai Umr Bhar Lekin,
Bas Ik Aulad Ki Takleef Se Maa Toot Jati Hai.

माँ पहले आँसू आते थे तो तुम याद आती थी,
आज तुम याद आती हो और आँसू निकल आते है।
Maa Pehle Aansu Aate The To Tum Yaad Aati Thi,
Aaj Tum Yaad Aati Ho Aur Aansu Nikal Aate Hai.

बद्दुआ संतान को इक माँ कभी देती नहीं,
धूप से छाले मिले जो छाँव बैठी है सहेज।
BadDuaa Santaan Ko Ek Maa Kabhi Deti Nahin,
Dhoop Se Chhale Mile Jo Chhaon Baithhi Hai Sehej.

जरा सी बात है लेकिन हवा को कौन समझाए,
कि मेरी माँ दीये से मेरे लिए काजल बनाती है।
Jara Si Baat Hai Lekin Hawaa Ko Kaun Samjhaye,
Ki Meri Maa Deeye Se Mere Liye Kajal Banati Hai.

Mothers Day Shayari in Hindi

ज़ख्म जब बच्चे को लगता है तो माँ रोती है,
ऐसी निस्बत किसी और रिश्ते में कहाँ होती है।
Zakhm Jab Bachche Ko Lagta Hai To Maa Roti Hai,
Aisi Nisbat Kisi Aur Rishte Mein Kahan Hoti Hai.

स्कूल का वो बस्ता मुझे फिर से थमा दे माँ,
जिंदगी का सफ़र मुझे बड़ा मुश्किल लगता है।
School Ka Woh Basta Mujhe Fir Se Thamaa De Maa,
Zindagi Ka Safar Mujhe Badaa Mushkil Lagta Hai.

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दी,
सिर्फ एक कागज़ पर लफ्जे माँ रहने दिया।
Maine Kal Shab Chahton Ki Sab Kitaabein Faad Di,
Sirf Ek Kagaz Par Lafze Maa Rahne Diya.

सख्त राहों में भी आसान सफ़र लगता है,
ये मेरी माँ की दुआओं का असर लगता है।
Sakht Raahon Mein Bhi Aasaan Safar Lagta Hai,
Yeh Meri Maa Ki Duaaon Ka Asar Lagta Hai.

जब-जब कागज पर लिखा मैंने माँ का नाम,
कलम अदब से बोल उठी हो गये चारों धाम।
Jab Jab Kagaj Par Likha Maine Maa Ka Naam,
Kalam Adab Se Bol Uthi Ho Gaye Charo Dhaam.

उसके होंठों पे कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस इक माँ है जो कभी खफा नहीं होती।
Uske Hontho Pe Kabhi Bad-dua Nahi Hoti,
Bas Ek Maa Hai Jo Kabhi Khafa Nahi Hoti.

Maa Shayari in Hindi

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है।
Jab Bhi Kashti Meri Sailaab Mein Aa Jaati Hai,
Maa Dua Karti Hui Khwaab Mein Aa Jaati Hai.

कभी मुस्कुरा दे तो लगता है ज़िंदगी मिल गयी मुझको,
माँ दुखी हो तो दिल मेरा भी दुखी हो जाता है।
Kabhi Muskura De To Lagta Hai Zindagi Mil Gayi Mujhko,
Maa Dukhi Ho To Dil Mera Bhi Dukhi Ho Jata Hai.

तेरे दामन में सितारे हैं तो होंगे ऐ फलक,
मुझको मेरी माँ की मैली ओढ़नी अच्छी लगी।
Tere Daaman Mein Sitaare Hain To Hongein Aye Falak,
Mujhko Meri Maa Ki Maili Odhni Achchhi Lagi.

ये कैसा कर्ज़ है जिसे मैं अदा कर ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर न आ जाऊं माँ सजदे में रहती है।
Yeh Aisa Karz Hai Jise Main Adaa Kar Hi Nahi Sakta,
Main Jab Tak Ghar Na Aa Jaun Maa Sajde Mein Rehti Hai.

ख़ुदा ने ये सिफ़त दुनिया की हर औरत को बख्शी है,
कि वो पागल भी हो जाए तो बेटे याद रहते है।
Khuda Ne Yeh Sifat Duniya Ki Har Aurat Ko Bakhshi Hai,
Ke Woh Paagal Bhi Ho Jaye To Bete Yaad Rehte Hain.

बहुत बुरा हो फिर भी उसको बहुत भला कहती है
अपना गंदा बच्चा भी माँ दूध का धुला कहती है।
Bahut Bura Ho Phir Bhi Usko Bahut Bhala Kahti Hai,
Apna Ganda Bachcha Bhi Maa Doodh Ka Dhula Kahti Hai.

अभी जिंदा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआयें साथ चलती हैं।
Abhi Zinda Hai Maa Meri Mujhe Kuchh Bhi Nahi Hoga,
Main Jab Ghar Se Nikalta Hoon Duaayein Sath Chalti Hain.

माँ मेरी खातिर तेरा रोटी पकाना याद आता है,
अपने हाथों को चूल्हे में जलाना याद आता है।
Maa Meri Khatir Tera Roti Pakaana Yaad Aata Hai,
Apne Haathon Ko Chulhe Mein Jalana Yaad Aata Hai.

वो डांट डांट कर खाना खिलाना याद आता है,
मेरे वास्ते तेरा पैसा बचाना याद आता है।
Wo Daant Daant Kar Khana Khilaana Yaad Aata Hai,
Mere Vaaste Tera Paisa Bachana Yaad Aata Hai.

कही हो जाये ना घर की मुसीबत लाल को मालूम,
छुपा कर तकलीफें तेरा मुस्कुराना याद आता है।
Kahin Ho Na Jaye Ghar Ki Museebat Laal Ko Maloom,
Chhupa Kar Takleefein Tera Muskurana Yaad Aata Hai.

जब आये थे तुझे हम छोड़ कर परदेश मेरी माँ,
मुझे वो तेरा बहुत आँसू बहाना याद आता है।
Jab Aaye They Tujhe Hum Chhod Kar Pardesh Meri Maa,
Mujhe Wo Tera Bahut Aansoo Bahana Yaad Aata Hai.

किसी भी मुश्किल का अब किसी को हल नहीं मिलता,
शायद अब घर से कोई माँ के पैर छूकर नहीं निकलता।
Kisi Bhi Mushkil Ka Ab Kisi Ko Hal Nahi Milta,
Shayad Ab Ghar Se Koi Maa Ke Pair Chhukar Nahi Nikalta.

नहीं हो सकता कद तेरा ऊँचा किसी भी माँ से ऐ खुदा,
तू जिसे आदमी बनाता है, वो उसे इंसान बनाती है।
Nahi Ho Sakta Kad Tera Uncha Kisi Bhi Maa Se Ai Khuda,
Tu Jise Aadmi Banata Hai Woh Use Insaan Banati Hai.

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकान आई,
मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई।
Kisi Ko Ghar Mila Kisi Ke Hisse Mein Dukaan Aayi,
Main Ghar Mein Sabse Chhota Tha Mere Hisse Mein Maa Aayi.

उमर भर तेरी मोहब्बत मेरी खिदमतगार रही माँ,
मैं तेरी खिदमत के काबिल जब हुआ तू चली गयी माँ।
Umar Bhar Teri Mohabbat Meri Khidmatgar Rahi Maa,
Main Teri Khidmat Ke Kabil Jab Hua Tu Chali Gayi Maa.

अपनी माँ को कभी न देखूँ तो चैन नहीं आता है,
दिल न जाने क्यूँ माँ का नाम लेते ही बहल जाता है।
Apni Maa Ko Kabhi Na Dekhu To Chain Nahi Aata Hai,
Dil Na Jaane Kyun Maa Ka Naam Lete Hi Bahal Jata Hai.

सच्चे रिश्तों की ये गहराइयाँ तो देखिये,
चोट लगती है हमें और चिल्लाती है माँ,
हम खुशियों में माँ को भले ही भूल जायें,
जब मुसीबत आ जाए तो याद आती है माँ।
Sachche Rishto Ki Ye Gehraiyan To Dekhiye,
Chot Lagti Hai Hamein Aur Chillati Hai Maa,
Hum Khushiyon Mein Maa Ko Bhale Bhi Bhool Jayein,
Jab Museebat Aa Jaye To Yaad Aati Hai Maa.

सबकुछ मिल जाता है दुनिया में मगर,
याद रखना की बस माँ-बाप नहीं मिलते,
मुरझा कर जो गिर गए एक बार डाली से,
ये ऐसे फूल हैं जो फिर नहीं खिलते।
Sab Kuchh Mil Jata Hai Duniya Mein Magar,
Yaad Rakhna Ki Bas Maa-Baap Nahi Milte,
Murjha Kar Jo Gir Jaaye Ek Baar Dali Se,
Yeh Aise Phool Hain Jo Phir Nahi Khilte.

माँ तो जन्नत का फूल है,
प्यार करना उसका उसूल है,
दुनिया की मोहब्बत फिजूल है,
माँ की हर दुआ कबूल है,
माँ को नाराज करना इंसान तेरी भूल है,
माँ के कदमों की मिट्टी जन्नत की धूल है।
Maa To Jannat Ka Phool Hai,
Pyaar Karna Uska Usool Hai,
Duniya Ki Mohabbat Fijool Hai,
Maa Ki Har Dua Kabool Hai,
Maa Ko Naraaj Karna Insaan Teri Bhul Hai.
Maa Ke Kadmo Ki Mitti Jannat Ki Dhool Hai.

Leave a Comment